क्राइम रिपोर्टमहाराष्ट्रमुंबई

बोगस पत्रकारों पर करेंगे सख्त कार्रवाई! झोन-1 के डीसीपी अमित काले ने दी चेतावनी

प्रेस के फर्जी आईकार्ड लेकर घुमनेवालों की अब खैर नहीं

भाईंदर, प्रतिनिधि: मीरा भाईंदर शहर और वसई-विरार शहर क्षेत्र के लिए पुलिस आयुक्तालय की मंजूरी मिलने के बाद मीरारोड के रामनगर स्थित मनपा प्रभाग कार्यालय में पुलिस आयुक्त का कार्यालय बनने जा रहा है। पुलिस आयुक्तालय की स्थापना होने के बाद मीरा भाईंदर शहर में कार्यरत ठाणे ग्रामीण पुलिस के अंतर्गत आनेवाले सभी छह पुलिस थाने अब आयुक्तालय के अधीन कार्य करेंगे। ऐसे में ठाणे ग्रामीण पुलिस की कार्य प्रणाली में पूर्ण रूप से बदलाव होनेवाला है। इसी बारे जानकारी देने के लिए और मीरा भाईंदर शहर में कार्य करनेवाले प्रिंट मीडिया और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के सभी पत्रकारों से अपना परिचय करने के लिए झोन-1 के डीसीपी अमित काले ने भाईंदर पश्चिम के पुलिस थाने में सभी प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया से ज़ुड़े पत्रकारों के साथ एक अनौपचारिक बैठक की इस बैठक में भाईंदर पश्चिम डिवीजन के सहायक पुलिस आयुक्त शशिकांत भोसले और मीरारोड डिवीजन के सहाय्यक पुलिस आयुक्त विलास सानप समेत कई बड़े पुलिस अधिकारी उपस्थित रहे।

इस बैठक में सर्वप्रथम डीसीपी अमित काले ने सभी पत्रकारों को अपना परिचय दिया और उसके बाद एक एक कर सभी पत्राकारों से उनका भी परिचय लिया। इस अवसर पर डीसीपी अमित काले ने एक सकारात्मक पहल करते हुए शहर के सभी प्रमुख पत्राकारों से उनके विचार और शहर से जुड़ीं समस्याओं पर उनके सुझाव जानने चाहें और उन्होने यह आश्वासन भी दिया कि पत्राकारों ने दिए हुए सभी सुझावों पर गंभीरता से विचार कर उनपर कारवाई करेंगे। साथ ही उन्होंने पत्रकारों को संबोधित करते हुए शहर की कानून व्यवस्था बनाये रखने के लिए सहयोग करने की अपील की। डीसीपी अमित काले ने विशेष रूप उल्लेख करते हुए सबका ध्यान आकर्षित करते हुए कहा कि मीरा भाईंदर शहर में बोगस पत्रकारों की एक टोली कार्यरत हैं जो कि एक बड़ी समस्या बनी हुई है और उन्होने यह भी चेतावनी दी कि जो बोगस पत्रकार शहर में अबतक अवैध बांधकाम वालों से, गैरकानूनी धंधे करनेवालों से उगाही करते थे उनपर कठोर कार्रवाई की जाएगी। इस विषय मे उन्होंने पत्रकारों से भी यह अपेक्षा जताई कि ऐसे बोगस पत्रकारों की जानकारी वो पुलिस को दें ताकि उनपर कारवाई की जा सके। डीसीपी अमित काले ने कहा कि जो बोगस पत्रकार होते हैं वो हफ्ता वसुली और कई प्रकार के गलत कार्य करते हैं लेकिन इसकी वजह से बाकी पत्रकारों की काफ़ी बदनामी होती है और इसे कही न कहीं रोकना होगा। इसपर उपस्थित पत्रकारों ने भी आश्वासन दिया कि मीरा भाईंदर शहर से जो भी बोगस पत्रकार है उनपर कठोर कार्रवाई करने के लिए पुलिस के साथ पूरा सहयोग करेंगे।

मीरा भाईंदर शहर में सैकड़ों अवैध लॉजिंग-बोर्डिंग हैं सैकड़ों डान्स बार भी है साथ ही मीरा भाईंदर शहर अवैध निर्माण के लिए भी काफी बदनाम शहर माना जाता है। शहर में हजारों अवैध निर्माण किए गए हैं और अभी भी कई अवैध निर्माण चल रहे हैं। ऐसे में इन अवैध कार्य करने वालों से उगाही करना काफी आसान होता है और यही कारण है कि मीरा भाईंदर शहर में बोगस पत्रकारों की बाढ़ सी आ गई है। जो कभी किसी समाचार पत्र में चार अक्षर भी लिख नही पाते वो बोगस पहचान पत्र लेकर और अपनी गाड़ी पर प्रेस का स्टिकर चिपकाकर शहर में हफ्ता वसूली करते घूम रहे हैं। इसी के चलते शहर में हफ्ता वसूली की शिकायतें काफ़ी बढ़ गई है। अब पुलिस आयुक्तालय बनने के बाद पुलिस की कार्य प्रणाली पूरी तरह से बदलने वाली है और जो भी ऐसे बोगस पत्रकार बने फिरते हैं उनपर अब जल्द ही शिकंजा कसने वाला है ऐसी चेतावनी झोन-1 के डीसीपी अमित काले ने दी है।

अब शहर के नागरिकों द्वारा यह उम्मीद जताई जा रही है कि जो लोग हज़ार-दो हजार रुपये देकर प्रेस का आईकार्ड बना लेते हैं और अपनी गाड़ी पर “प्रेस” का स्टिकर चिपका लेते हैं और फिर उसी के दम पर शहर में हफ्ता वसूली करते फिरते हैं ऐसे बोगस पत्रकारों पर कठोर कानूनी कार्रवाई की जाएगी और अब ऐसे बोगस पत्रकारों की खैर नहीं!

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
सर्व हक्क मुख्य संपादक यांचे कडे असून त्यांच्या परवानगी शिवाय काहीही कॉपी करू नाही.
Close
Close