टॉप न्यूज़

क्या भाजपा सरकार गरीबों के हितों की रक्षा करने मे पूरी तरह असफल हो चूकी है?

May 17 2020 10:27PM

नज़रिया : #CAA भारतीय जनता पार्टी द्वारा नागरिकता संशोधन कानून जब देश लाया गया तो सरकार की ओर से यह तर्क दिया गया कि बांग्लादेश, पाकिस्तान और अफगानिस्तान जैसे दूसरे मुस्लिम बहुल देशों में प्रताडीत किए जा रहे हिंदूओं को नागरिकता दि जाएगी और उन्हें भारत देश मे बसाया जाएगा। लेकिन कोरोना जैसी महामारी से बचने के लिए देशभर में बिना सोचे समझे, अचानक संपूर्ण लाॅकडाऊन किया गया उस वक्त भाजपा सरकार ने यह बिलकुल भी नही सोचा कि इसके कितने भयंकर परिणाम देश की गरीब जनता पर होंगे। लाॅकडाऊन के दौरान देखा गया कि किस तरह करोडों मजदूर बेरोजगार हो गए, करोडों लोगों को भूखों मरने की नौबत आ गई, लाखों लोगों को मजबूरन हजारों मील पैदल चलने को मजबूर होना पड़ा लेकिन किसी भी राजनैतिक पार्टी ने उनकी सहायता नहीं की। सबसे बड़े दुख की बात तो यह है की इन गरीब मजदूरों मे लगभग ज्यादातर लोग हिंदू ही है। इन सभी घटनाओं ने आज सभी गरीब जनता की आंखें खोलकर रख दी है। भारतीय जनता पार्टी हिंदूओं की रक्षा के लिए हिंदू राष्ट्र के स्थापना की बात तो करती है लेकिन वही भाजपा इन गरीबों की रक्षा करने मे पूरी तरह असफल होती दिखाई दे रही है। इससे अब एक बात तो साफ हो गई है की भाजपा सरकार को सिर्फ हिंदूओं से ही नही बल्कि देश की किसी भी गरीब जनता से ही कोई लेना-देना नहीं है उन्हें तो सिर्फ अमीर उद्योगपतियों की चिंता है। भाजपा सरकार द्वारा विदेशों में फंसे अमीरों को हवाई जहाज से देश मे सुरक्षित पहुंचाने के लिए "वंदे भारत मिशन" तो चलाया जाता है लेकीन जो गरीब मजदूर दुसरे राज्यों में फंसे हैं जो अपने गांव जाना चाहते हैं उनसे रेल और बस का किराया भी वसूला जाता है। जो लाखों मजदूर सडकों पर पैदल चलने को मजबूर हैं उन्हें उनके घरों तक पहुंचाने के लिए कोई वाहनों की व्यवस्था नहीं की जाती। इस बात से यह साबित हो जाता है कि सत्ता मे रहने के लिए हिंदू-मुस्लिम की राजनीति करना भाजपा मजबूरी है। वरना आज करोडों हिंदू मजदूर इस तरह बेसहारा, भूखे-प्यासे मर नही रहे होते। आज उनकी अपनी मातृभूमि होने के बावजूद भाजपा की योगी सरकार ने उत्तर प्रदेश की सीमा पर हजारों मजदूरों को रोक दिया है। उन्हें राज्य मे घुसने नहीं दिया जा रहा है क्या यही है हिंदूओं की हितैषी सरकार?

जब भाजपा सरकार देश मे रहनेवाले उन्हींके मतदाता, गरीब, हिंदूओं की रक्षा नहीं कर सकती तो विदेशों से आने वाले हिंदूओं की रक्षा कैसे कर पाएगी? इससे यह बात साफ हो जाती है कि #CAA नागरिकता संशोधन कानून सिर्फ धार्मिक ध्रुवीकरण कर अपनी राजनैतिक रोटियाँ सेंकने के लिए लाया गया कानून है इससे हिंदूओं की रक्षा से कोई लेना-देना नहीं है।

देश की जनता की कम से कम अब तो आंखें खूल जानी चाहिए की इन राजनैतिक पार्टियों का हिंदू-मुस्लिम जातिवाद, धार्मिक विवाद यह सब इन राजनैतिक पार्टियों के  सत्ता हथियाने के हथियार है और कुछ नहीं। एक बात तो तय है कि अब देश मे गरीब जनता की कोई सुनवाई नहीं है और आखिर मे जनता को अपना रास्ता खुद ही खोजना है और #आत्मनिर्भर होना है।

~ लेखक : मोईन सय्यद (संपादक लोकहित न्यूज़)

प्रतिक्रिया





View all Comments











Make it modern

Popular Posts