Featured ताज़ा खबरें महाराष्ट्र मुंबई

पूर्व नगरसेवक चंद्रकांत मोदी ने कांग्रेस पार्टी छोड़कर थामा भाजपा का दामन

मीरा भाईंदर: मीरा भाईंदर शहर के कांग्रेस पार्टी के पूर्व नगरसेवक और कांग्रेस नेता मुज्जफर हुसैन के करीबी माने जाने वाले चंद्रकांत मोदी ने भाजपा में पक्ष प्रवेश कर लिया है। मुंबई स्थित भाजपा प्रदेश कार्यालय पर विरोधी पक्ष नेता, पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांतदादा पाटील व अन्य नेताओं की उपस्थिती मे चंद्रकांत मोदी ने मीरा भाईंदर शहर जिलाध्यक्ष एड. रवि व्यास नेतृत्व पर विश्वास जताते हुए भाजपा में प्रवेश कर लिया है।

चंद्रकांत मोदी 2007 के मनपा चुनावों कांग्रेस पार्टी से चुनाव लड़ते हुए नगरसेवक बने थे। उसके बाद वो 2012 में भी कांग्रेस से चुनाव लड़े लेकिन इस बार वो चुनाव हार गए थे। चंद्रकांत मोदी खुद को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के रिश्तेदार होने का दावा अक्सर करते रहे हैं लेकिन उसमे कितनी सच्चाई है ये तो वो ही जानें।

बताया जाता है कि चंद्रकांत मोदी अभी फिर से आने वाले मनपा चुनाव अपनी किस्मत आजमाना चाहते हैं लेकिन शांति नगर इलाके में कांग्रेस की खस्ता हाल देखकर उन्हें कांग्रेस पार्टी से चुनाव जीतने उम्मीद कम ही दिखाई दे रही थी। शांति नगर इलाके में लगभग सभी प्रभागों पर भाजपा के नगरसेवक चुनाव जीते है। उनका बढ़ता प्रभाव देख सुरक्षित प्रभाग से निश्चित रूप से चुनाव जीतने के लिए भाजपा ही एकमात्र विकल्प उन्हें दिखाई दे रहा था और शायद यही कारण है कि उन्होंने पूर्व विधायक, कांग्रेस नेता मुजफ्फर हुसैन का बरसों का साथ छोड़कर भाजपा का दामन थाम लिया है लेकिन शांति नगर के मतदाता उन्हें भाजपा के कार्यकर्ता के रूप में स्वीकार करेंगे की नही? ये देखने वाली बात होगी।

चंद्रकांत मोदी भले ही मीरारोड पूर्व के शांति नगर इलाक़े में गुजराती समाज में अच्छी पकड़ रखने का दावा करते हो लेकिन वो जिस प्रभाग से चुनाव लडने की सोच रहे हैं उसी प्रभाग में भाजपा के अनिल विरानी, दिनेश जैन, अश्विन, कसदोरिया, प्रशांत दलवी, मनोज दुबे जैसे विद्यमान तगड़े नगरसेवकों के मौजूद होने के चलते उन्हें भाजपा उन्हें टिकट देगी या नहीं यह भी एक बड़ा सवाल है।

चंद्रकांत मोदी ने भले ही भाजपा में प्रवेश कर लिया है लेकिन अगर आने वाले मनपा चुनावों में उन्हें भाजपा से टिकट नहीं मिलता है तो उनकी स्थिति “न खुदा ही मिला न विसाल-ए- सनम, न इधर के हुए न उधर के हुए” जैसी हो सकती है।

Share it!

Leave a Reply

Your email address will not be published.